जन शिकायतों के निस्तारण को सर्वोच्च प्राथमिकता

0
201

उरई- सोमवार को नये जिलाधिकारी सौरभ बाबू ने यहां विधिवत कार्यभार ग्रहण कर लिया। बाद में पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा कि जन शिकायतों का निस्तारण उनकी सर्वोच्च प्राथमिकता होगी। तहसील दिवस में आने वाले शिकायतों के निस्तारण में लापरवाही पर कड़ी कार्रवाई की जायेगी।

सौरभ बाबू जालौन स्थानांतरित होने के पहले फतेहपुर के डीएम थे और स्थानांतरण के समय प्रशिक्षण के लिए विदेश गये हुए थे। निवर्तमान डीएम पी. गुरुप्रसाद को उनकी जगह फतेहपुर भेजा गया है। स्थानांतरण आदेश आते ही श्री प्रसाद फतेहपुर रवाना हो गये थे जिसकी वजह से लगभग एक हफ्ते तक यहां यह पद रिक्त रहा। नये जिलाधिकारी आज सबसे पहले डीएम बंगले पर पहुंचे। वहां उन्होंने अपर जिला मजिस्ट्रेट अरुण कुमार, सिटी मजिस्ट्रेट राजेंद्र कुमार व अन्य उप जिलाधिकारियों से परिचय प्राप्त किया। इसके बाद कलेक्ट्रेट स्थित जिला कोषागार पहुंचे जहां अपने हस्ताक्षर कर उन्होंने चार्ज लेने की औपचारिकता पूरी की। इसके बाद अपने दफ्तर में पत्रकारों से संक्षिप्त बातचीत में उन्होंने कहा कि पीड़ित जनता की शिकायतों के त्वरित समाधान को वे अपनी कार्य नीति में सबसे ऊपर स्थान देंगे। उन्होंने कहा कि यह सुनिश्चित किया जायेगा कि हर कार्य दिवस में प्रत्येक विभागाध्यक्ष अपने कार्यालय में 10 से 12 बजे तक बैठकर लोगों की समस्याएं सुनें और उनका निस्तारण करे। तहसील दिवस में हर विभागाध्यक्ष को अनिवार्य रूप से भाग लेना होगा। वहां पंजीकृत होने वाली हर शिकायत का समयबद्ध निस्तारण कराया जायेगा। शिकायतों के निस्तारण में हीलाहवाली करने वाले अधिकारी दंडित होंगे। जिलाधिकारी ने कहा कि योजनाओं के कार्यान्वयन में पारदर्शिता बरती जायेगी। किसी भी तरह की अनियमितता की छूट अधिकारियों को नहीं दी जायेगी। जॉबकार्ड धारकों को काम और समय पर भुगतान दिलाने की व्यवस्था करेगे। बीपीएल योजनाओं का लाभ पात्र व्यक्तियों को ही मिलना सुनिश्चित किया जायेगा। शस्त्र लाइसेंसों को लेकर उन्होंने कहा कि जरूरत के आधार पर लाइसेंस जारी किए जायेंगे। उन्होंने कहा कि कितने शस्त्र लाइसेंस जारी करेगे यह संख्या तय नहीं की जा सकती।