छोटी-छोटी क्यारियों में वर्षा का पानी रोकें

0
121

हमीरपुर- कृषि विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिकों ने इस वर्षा को अमृत जल वर्षा कहा है। क्योंकि इस वर्षा से जीवन को कुछ राहत मिली है। डा. जगदीश किशोर फसल सुरक्षा वैज्ञानिक ने कहा कि इस समय पर जो नीम की निबौली बहुत तेजी से पक रही है, उसको बर्बाद होने से बचा लें। क्योंकि जो नीम का फल है उसमें औषधीय गुण है। इससे इल्ली की दवाई, फूदका, जड़ सड़न और मृदा शोधन बहुत अच्छी प्रकार से किया जा सकता है। इस जल को रोकने के लिए कृषकों को चाहिए कि अपने खेतों में छोटी छोटी क्यारियों के रूप में ऊपर से नीचे की तरफ पानी को रोकें और हरी खाद के लिए मूंग, उर्द, तिल को बोयें। यही इसका उपयुक्त समय हैं। किसानों को चाहिए कि तुरंत बखराई करके बोवाई शुरू कर दें। डा. एम के सिंह उद्यान वैज्ञानिक ने सलाह दी कि इस समय तरोई, भिंडी, लौकी, कुम्हड़ा की सब्जियों की बोवाई करना है। डा.पांडेय ने किसानों को सलाह दी कि वर्षा की शुरूआत हो गयी है, इसलिए पशुओं का टीकाकरण अवश्य करा लें।

NO COMMENTS