छह नए पोषण पुनर्वास केन्द्र स्थापित होंगे

0
198

ललितपुर- कलेक्ट्रेट सभागार में यूनिसेफ द्वारा सहायतित विभिन्न कार्यक्रमों की समीक्षा करते हुए जिलाधिकारी रणवीर प्रसाद ने कहा कि लक्षित कार्यक्रमों के तहत उपलब्धि प्राप्त होना नितांत आवश्यक है। उन्होंने पिछले तीन वर्षो के दौरान चलाये गए कार्यक्रमों पर संतोषजनक बताया। उन्होंने नवम्बर माह में वर्ष 2010 की योजना तैयार करने के निर्देश दिए। इस दौरान स्वच्छता के अलावा स्वास्थ्य कार्यक्रमों के सम्बंध में सदस्यों ने आपत्तिया भी दीं, जिनका निराकरण किया गया।

कलेक्ट्रेट सभागार में स्वास्थ्य, आईसीडीएस, शिक्षा व पंचायतराज विभाग के जनपदस्तरीय अधिकारियों ने यूनिसेफ सहायतित विभिन्न कार्यक्रमों की उपलब्धि विवरण प्रस्तुत किया। इस दौरान तालबेहट की सफलता से प्रेरित होकर जनपद में 6 नए पोषण पुनर्वास केन्द्र खोलने का निर्णय लिया गया। जिलाधिकारी ने कहा कि कार्यो में कोई गतिरोध उत्पन्न न हो इसके लिए स्वास्थ्य कर्मियों के अलावा अन्य कर्मियों का सहयोग प्राप्त किया जाए। विकास खण्ड बिरधा के बीडीओ ने 2 एएनएम को जनपद स्तर पर लगाये जाने के सम्बंध में उत्पन्न गतिरोध की जानकारी दी। इस सम्बंध में जिलाधिकारी ने कहा कि किसी एक को जरूरी कार्य में लगाया जाए जबकि दूसरी स्वास्थ्य कार्यकत्री को निर्धारित कार्यक्रम का कार्य दायित्व ही करने दिया जाए। उन्होंने जिले में दूरस्थ एवं स्टाफ रहित गावों में टीकाकरण, किशोरी बालिकाओं में एनीमिया दूर करने, बाल स्वास्थ्य पोषण में विटामिन ए का आच्छादन बढ़ाने आदि के निर्देश दिए। आईसीडीएस से जुडे़ नरेन्द्र सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि जिले में बजन तौलने की मशीनों का अभाव बना हुआ है। इस वजह से बच्चों का बजन नहीं हो पा रहा है।

इस दौरान मदर सपोर्ट ग्रुप 791 बनाये जाने की जानकारी दी गई। यूनिसेफ के अखिलेश गौतम ने विभिन्न विभागों के साथ किये गए कार्यो का प्रगति ब्यौरा प्रस्तुत किया। उप मुख्य चिकित्साधिकारी डा.मुकेश चंद्र दुबे ने एनआरएचएम कार्यक्रम की जानकारी दी। इस मौके पर मुख्य विकास अधिकारी बुद्धिराम, डाईट प्राचार्य, जिला बेसिक शिक्षाधिकारी आदि प्रमुख रूप से मौजूद थे। संचालन डा.एच.सी.पालीवाल ने किया।

NO COMMENTS