ग्वालियर में वेटरनरी कालेज खोला जाएगा

0
158

ग्वालियर- प्रदेश सरकार जैविक खेती की ओर ज्यादा ध्यान दे रही है। किसान खेती में रासायनिक दवाओं का उपयोग कम कर जैविक साधनों को अपना सकें, इसके लिए मप्र को जैविक प्रदेश बनाया जाएगा। ग्वालियर में वेटरनरी कालेज खोला जाएगा। यह बात प्रदेश के कृषि मंत्री रामकृष्ण कुसमारिया ने रविवार को तीन दिवसीय कृषि विज्ञान मेला के शुभारंभ अवसर पर कही।

कृषि महाविद्यालय प्रांगण में आयोजित कार्यक्रम में मंत्री ने कहा कि हमारी संस्कृति में ऋषि और कृषि दोनों जुड़े हुए हैं। ऋषि आज के कृषि वैज्ञानिक हैं। वे अपने विश्वविद्यालयों में शोध कर कृषि की नई-नई तकनीक को किसानों तक पहुंचाएं, तभी खेती का धंधा लाभकारी बन सकेगा और युवाओं का कृषि प्रेम जागृत होगा। कृषिमंत्री ने स्वास्थ्य मंत्री अनूप मिश्रा की मांग पर सहमति जताते हुए कहा कि पशुओं को जल्द बीमारियों से बचाया जा सके, इसके लिए ग्वालियर में वेटरनरी (पशु चिकित्सा) कालेज खोला जाएगा। कृषि के साथ-साथ पशुपालन भी अति आवश्यक है। किसानों को मिले कृषि विवि खुलने का लाभ

कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे चिकित्सा मंत्री अनूप मिश्रा ने कहा कि ग्वालियर में विश्वविद्यालय खुल गया है, अब उससे किसानों को लाभ मिलना चाहिए, इसलिए विवि के शोध को खेतों तक पहुंचाना होगा। उन्होंने कहा कि फसल खराब होने पर भी इसका लागत मूल्य किसानों को मिलना चाहिए। कार्यक्रम को किसान मोर्चा के अध्यक्ष वेदप्रकाश शर्मा ने भी संबोधित किया। संचालन कृषि कालेज के प्रो. यशवंतराव इन्दापुरकर व आभार कृषि विभाग के एसके शर्मा ने व्यक्त किया। इस अवसर पर गौ पालन बोर्ड के उपाध्यक्ष पदम बरैया, विधायक मदन कुशवाह, कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति वीएस तोमर, बीज निगम के पूर्व अध्यक्ष महेन्द्र सिंह यादव, भाजपा जिलाध्यक्ष अभय चौधरी आदि उपस्थित थे।