ग्रामीणों को समझायेंगे आधुनिक खेती के तरी़के

0
201

झांसी- अच्छी पैदावार हेतु सरकार द्वारा चलाई जा रही खेती-किसानी की लाभकारी योजनाओं व नयी तकनीक की जानकारी हेतु अन्नदाता को अब मुख्यालय में सरकारी मशीनरी के आगे-पीछे दौड़ने से मुक्ति मिल जाएगी। किसानों की इस जरूरत को पूरा करने के लिए अब गांव-गांव कृषि गोष्ठियां कराई जायेंगी।

अभी जिला व मण्डल स्तर पर कृषि से सम्बन्धित गोष्ठियां आयोजित होती हैं। शासन का मानना है कि इनसे किसानों को पूरा फायदा नहीं मिल पाता। इन गोष्ठियों व बड़े अधिकारियों की बैठकों में सामान्य किसान पहुंच ही नहीं पाते। इसके कारण गोष्ठियों का उद्देश्य सफल नहीं हो पाता और स्थिति जस की तस रहती है। इस स्थिति को देखते हुए शासन ने किसानों के समीप जाकर उनकी मदद करने का इरादा किया है।

योजना के तहत मण्डल या जिला मुख्यालयों पर होने वाली गोष्ठियों की तर्ज पर अब ग्राम पंचायतों में किसान गोष्ठियां करने का निर्णय लिया गया है। यह पहल गांव में ही किसानों की समस्याओं का समाधान कराने व उन्हे आधुनिक खेती के तरीके समझाने के लिए की गयी है। इन गोष्ठियों में कृषि विभाग के अधिकारी व उनका तकनीकी स्टाफ मौजूद रहेगा। ग्राम पंचायतों में जुटा यह पूरा अमला किसानों की खेती सम्बन्धी समस्याओं का समाधान कराने के साथ ही उन्हे आधुनिक खेती के गुर भी समझाएगा।

मण्डल की कुल 1356 ग्राम पंचायतों में इस खरीफ सीजन से ही इन गोष्ठियों की शुरूआत कराई जाएगी। बताया गया है कि जिला झांसी में 452, ललितपुर में 340, जालौन में 564 ग्राम पंचायतें है, किन्तु इनके हिसाब से कृषि विभाग के पास सम्बन्धित अधिकारियों की कमी है। इसको देखते हुए गोष्ठियां 15 से 21 जून व 22 से 28 जून तक एक-एक दिन में दो-दो समय प्रत्येक ग्राम पंचायत में आयोजित होंगी। इनमें किसान सहायक, कृषि रक्षा पर्यवेक्षक, भूमि संरक्षण निरीक्षक, सहायक भूमि संरक्षण निरीक्षक, सहायक कृषि विकास अधिकारी, कृषि रक्षा अधिकारी आदि भाग लेंगे।

NO COMMENTS