गेहू क्रय केन्द्रों पर अव्यवस्थाओं को लेकर संगठनों ने जताया रोष

0
264

ललितपुर। शासन-प्रशासन के कड़े दिशा निर्देशों के पश्चात भी गेहूं क्रय केन्द्रों की व्यवस्थायें सुधरने का नाम नहीं ले रही है। नवीन गल्ला मण्डी में मौजूद क्रय केन्द्रों पर तो गेहू से भरे वाहनों की कतार लगी है, लेकिन कोई भी किसानों का गेहू खरीदने के लिए तैयार नहीं है। भारतीय किसान यूनियन ने जिलाधिकारी को ज्ञापन देकर मण्डी स्थित क्रय केन्द्रों पर गेहू खरीदने में की जा रही हीलाहवाली की जाच कराये जाने की माग की है। उन्होंने बताया कि बिचौलियों को प्रोत्साहन देने का कार्य किया जा रहा है। उन्होंने नगर पालिका द्वारा भी ट्रैक्टरों से अवैध रूप से वसूली जा रही तहबाजारी पर अंकुश लगाने की बात उठायी।

गेहू क्रय केन्द्रों की व्यवस्थाओं से किसान परेशान बने हुए है। वह अपने गेहू को तरह-तरह की आपदाओं से बचाकर बेचने आते है तो शोषण उत्पीड़न उनका पीछा छोड़ने का नाम नहीं लेता। जहा बिचौलिये 800 रुपये प्रति कुन्टल गेहू धड़ल्ले से खरीद रहे है वहीं क्रय केन्द्रों पर घटों से कतार लगाने के पश्चात भी गेहू नहीं खरीदा जा रहा। भारतीय किसान यूनियन ने बताया कि गल्ला मण्डी स्थित तीन केन्द्रों पर माल रखने के लिए बोरे नहीं है तथा भुगतान के लिए रुपये का अभाव बताया जा रहा है, जिसके चलते पिछले चार दिनों से किसान अपने वाहनों समेत मण्डी में डेरा डाले हुए है, लेकिन उनका गेहू क्रय नहीं किया जा रहा है। उन्होंने जिलाधिकारी से व्यवस्थाओं को शीघ्रता से सुधारे जाने की माग की। उन्होंने यह भी बताया कि नगर पालिका के नाम पर 20-25 असामाजिक तत्व ट्रैक्टर वालों को रोक कर प्रति ट्रैक्टर मनमानी वसूली कर रहे है। शासन द्वारा तहबाजारी व्यवस्था समाप्त कर दी गयी है। इसके पश्चात भी कतिपय लोग किसानों के वाहनों पर आ धमकते है तथा धमकाकर पैसे ऐंठ रहे है। इस सम्बन्ध में भी कार्यवाही की माग उठायी गयी।

इधर बुन्देलखण्ड विकास सेना ने भी बैठक कर गेहू क्रय केन्द्रों की व्यवस्थाओं पर रोष जताया। बैठक में कहा गया कि किसानों का गेहू उचित मूल्य पर नहीं उठाया जा रहा। प्रति कुन्टल 50 से 100 रुपये कम दर पर गेहू क्रय किया जा रहा है। पाचौनी, इमलिया, देवरान के किसानों को हुई समस्या से भी संगठन के कार्यकर्ताओं ने रोष जताया। उन्होंने आरोप लगाया कि व्यापारियों से साठगाठ करके सरकार की पवित्र मंशा पर पलीता लगाया जा रहा है।