गायत्री परिवार का यज्ञ भूमि पूजन संपन्न

0
147

दूसरों के हित में किया जाने वाला काम ही धर्म है – प्रो. सिंह

चित्रकूट – लाल पीला वस्त्र धारण कर चोला बदल लेने से कोई व्यक्ति धार्मिक नहीं हो जाता। दूसरों के हित के लिए काम करने वाला ही धार्मिक होता है। हर धार्मिक कार्य करने वाले को यज्ञ अवश्य करना चाहिए। गायत्री परिवार द्वारा आयोजित भूमि पूजन कार्यक्रम के दौरान लोगों ने अपने-अपने विचार व्यक्त करते हुए धर्म और यज्ञ का अर्थ समझाया।

मुख्यालय के गल्लामण्डी परिसर में आगामी 17 अप्रैल से शुरू हो रहे 108 कुण्डीय गायत्री यज्ञ की  तैयारियों में जुटे गायत्री परिवार के लोगों ने भूमि पूजन का कार्यक्रम आयोजित किया। जिसमें शान्तिकुंज हरिद्वार से आए वीरेन्द्र तिवारी ने पूजा अर्चना करवाई। तिवारी ने कहा कि जब तक मनुष्य में मनुष्यता नहीं आती तब वह धार्मिक नहीं हो सकता। लाल-पीले कपड़े पहन लेने या अपना चोला बदल लेने वाले को धार्मिक नहीं कहा जा सकता। गायत्री शक्तिपीठ के व्यवस्थापक रामनारायण त्रिपाठी ने कहा कि हमारे धर्म ग्रन्थों में यज्ञ को श्रेष्ठ माना गया है। ईश्वर से प्रेम करने वाले व पूजा पाठ करने वाले को यज्ञ अवश्य करना चाहिए। उन्होंने कहा कि आचार्य प. श्री राम शर्मा ने  युग निर्माण योजना व्यक्ति के चरित्र, चिन्तन, आचरण व व्यवहार को बदलने के उद्देश्य से चलाई थी। जिसका प्रतिफल आज कुछ-कुछ देखने को मिल रहा है।

इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रुप में उपस्थित चित्रकूट ग्रामोदय विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. ज्ञानेन्द्र सिंह ने कहा कि वह कार्य जिसके द्वारा दूसरों की भलाई हो धर्म है। रामचरित मानस पर बोलते हुए सिंह ने कहा कि गोस्वामी तुलसीदास ने रामचरित मानस के माध्यम से राम को हमारे दिलों में बसा दिया है। उन्होंने कहा कि रामचरित मानस से हमें यह सीखने को मिलता है कि परिवार का त्याग किए बिना भी समाज व मानवता की रक्षा की जा सकती है। वरिष्ठ अधिवक्ता भालेन्द सिंह ने कहा कि हमारा देश ही एक ऐसा देश है जहां भगवान स्वयं जन्म लेते हैं। भारत देश ऋषियों मुनियों का देश है और गायत्री शक्तिपीठ के संस्थापक प. श्री राम शर्मा आचार्य ऋषी परंपरा के अग्रदूत हैं। आलोक द्विवेदी ने कहा कि गायत्री परिवार अपने लिए नहीं दूसरों की भलाई के लिए काम करता है। इसके बाद संयोजक आर एस सिंह ने कहा कि यज्ञ को सफल बनाना हम सभी का परम कर्तव्य है।

भूमि पूजन के अवसर पर केशव शिवहरे, राजेश गौतम, रजा करवरिया, शिवलाल सिंह, शंकर लाल गुप्ता, अखिलेश श्रीवास्तव, राजेन्द्र श्रीवास्तव, मृदुल, गंगाराम, सत्यदेव पाण्डेय, नरेश पाण्डेय , हरिश्चन्द्र गुप्ता, भवानीदीन यादव, सुधा तिवारी, श्रवण गुप्ता, विवेक श्रीवास्तव, गायत्री तिवारी, लल्लू सिंह, पुष्पा शर्मा, बाला प्रसाद, डा. कंचनी, हनुमानदीन सिंह, कन्हैयालाल वर्मा सहित सैकड़ों की संख्या में गायत्री परिवार के लोग उपस्थित रहे।
श्री गोपाल
09839075109
bundelkhandlive.com