केन्द्रीय धन का दुरूपयोग

0
237

उ0प्र0 कंाग्रेस कमेटी के मीडिया चेयरमैन एवं बान्दा सदर से विधायक विवेक कुमार सिंह ने आज यहां जारी एक प्रेस बयान में कहा है कि कल मैंने मुख्यमन्त्री जी को एक पत्र उनके निवास पर फैक्स किया था ताकि वह मुझे समय दें और मैं उनके समक्ष उनकी सरकार में मन्त्री श्री नसीमुद्दीन सिद्दीकी के खिलाफ भ्रष्टाचार के तथ्य रख सकूं। किन्तु 24 घण्टे बीत जाने के बावजूद भी उनका कोई भी जवाब मुझे प्राप्त नहीं हुआ है।

श्री सिंह ने कहा कि दूरदर्शन पर श्री सिद्दीकी ने कहा है कि तीन सदस्यीय कमेटी का गठन किया गया है, इसमें अध्यक्ष चित्रकूट मण्डल के आयुक्त बनाये गये हैं व दो अन्य सदस्य श्री सिद्दीकी के विभाग के अधिकारी हैं। इतने बड़े घोटाले की जांच वही अधिकारी करेंगे जो इस घोटाले में शामिल हैं। क्या वह मन्त्री या उनके रिश्तेदारों की जांच कर सकेंगे, जिसमें घटिया सामान व ठेकेदारी में अप्रत्यक्ष रूप से वह शामिल हैं। यह मामला रफा-दफा करने की साजिश है।

श्री सिंह ने कहा कि अगर वास्तव में सरकार की मंशा भ्रष्टाचार को सामने लाने की है तो स्वयं मुख्यमन्त्री को आगे आना चाहिए और इसकी जांच या तो केन्द्रीय जांच एजेंसी या न्यायिक जांच पुल सहित सभी निर्माण कार्यों की करायी जानी चाहिए। उन्होने कहा कि इसके सन्दर्भ में पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को उन्होने अवगत करा दिया है, जिसमें राष्ट्रीय महासचिव-प्रभारी उ0प्र0 श्री दिग्विजय सिंह, प्रदेश अध्यक्ष डॉ0 रीता बहुगुणा जोशी व कांग्रेस विधानमण्डल दल के नेता श्री प्रमोद तिवारी शामिल हैं। कंाग्रेस पार्टी इस गम्भीर प्रकरण पर चुप बैठने वाली नहीं है।

उन्होने कहा कि मुख्यमन्त्री जी के जवाब का वह इन्तजार कर रहे हैं, इसके बाद यदि मुख्यमन्त्री का जवाब नहीं आया तो वह एक प्रतिनिधिमण्डल के साथ महामहिम राज्यपाल उ0प्र0 से मिलकर श्री नसीमुद्दीन सिद्दीकी के काले कारनामों का चिट्ठा उन्हें सौंपेंगे। उसके बाद चूंकि केन्द्रीय धन का दुरूपयोग हुआ है इसलिए प्रधानमन्त्री डॉ0 मनमोहन सिंह एवं कंाग्रेस अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गांधी जी से मुलाकात करके इस भ्रष्टाचार को उजागर करेंगे।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com