किसानों की बदहाली और खुदकशी की घटनाओं का प्रशासनिक अधिकारी मजाक उड़ा रहे है

0
291

कर्ज से तवाह हो रहे बुन्देलखण्ड के किसानों की बदहाली और खुदकशी की घटनाओं का प्रशासनिक अधिकारी मजाक उड़ा रहे है।

राजस्व मंत्री अम्बिका चैधरी ने बाँदा की तिन्दवारी विधानसभा के विधायक दलजीत सिंह को जवाब दिया कि बुन्देलखण्ड के बाँदा, हमीरपुर, ललितपुर झांसी तथा चित्रकूट में कर्ज एवं गरीबी सूखा के कारण किसी किसान ने आत्महत्या नहीं की है।

प्रशासनिक अफसरों ने गायब कर दिया भरा पूरा गाँव गोरनपुरवा जहाँ किसान कामता प्रसाद ने 12 मई 2012 को कर्ज के कारण कीटनाशक दवा खाकर आत्महत्या की थी।

इंडियन जस्टिस पार्टी के प्रदेश महासचिव इसरार उल्ला सिद्दीकी ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी करते हुए कहा कि प्रदेश के प्रशासनिक अधिकारी इतने असंवेदनशील हो गये है कि बुन्देलखण्ड में विगत 6 वर्षो से वर्षा न होने के कारण सूखा पड़ा हुआ है पूर्ववर्ती बसपा सरकार व केन्द्र सरकार ने सूखे को देखते हुए तमाम योजनायें संचालित की हुई है। तब भी किसान कर्ज एवं गरीबी के कारण आयेदिन आत्महत्या कर रहे है प्रशासनिक अधिकारी सरकार को खुश करने के लिए किसानों द्वारा कर्ज एवं गरीबी से परेशान होकर आत्महत्या करने की रिपोर्ट शासन को झूठी दे रहे है।

श्री सिद्दीकी ने बतलाया कि अभी 12 मई 2012 को हमीरपुर जनपद मुख्यालय से 54 किलोमीटर दूर मुस्करा कस्बे के निकट तहसील मौदहा ग्राम पंचायत गहरौली मजरा गोरनपुरवा में किसान कामता प्रसाद ने कर्ज एवं सूखे से परेशान होकर कीटनाशक पीकर आत्महत्या कर ली थी मुस्करा पुलिस ने पंचनामें में कीटनाशक की शीशी का भी जिक्र किया है कि वहीं पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी किसान कामता की मौत का कारण कीटनाशक बताया गया है। श्री सिद्दीकी ने बतलाया कि तिन्दवारी विधानसभा के विधायक श्रीदलजीत सिंह ने कर्ज से तवाह हो रहे बुन्देलखण्ड के किसानों की बदहाली खुदकशी की बढ़ती घटनाओं के लिए राजस्व मंत्री श्री अम्बिका चैधरी को पत्र लिखा शासन ने इस पत्र की बिन्दुवार जांच कराई सभी जिलों से मिली रिपोर्ट के आधार पर मा0 राजस्व मंत्री ने कहा कि सभी जिलों के जिलाधिकारियों की आख्यानुसार किसी किसान ने कर्ज एवं गरीबी से परेशान होकर आत्महत्या नहीं की।

श्री सिद्दीकी ने कहा कि जिलाधिकारी हमीरपुर ने शासन को जो रिपोर्ट दी है उसमें कहा कि जनपद हमीरपुर स्थित तहसील हमीरपुर के अन्तर्गत गोरनपुरवा नाम का कोई ग्राम नहीं है न ही किसी किसान द्वारा कर्ज और आर्थिक तंगी से परेशान होकर आत्महत्या की है जबकि हमीरपुर जनपद के कस्बा मुस्करा के निकट तहसील मौदहा के गहरौली ग्राम पंचायत मजरा गोरनपुरवा है सरकारी दस्तावेजों में है वहीं किसान कामता प्रसाद ने कर्ज से परेशान होकर आत्महत्या की थी थाना मुस्करा में मुकदमा भी पंजीकृत है।

श्री सिद्दीकी ने मा0 मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से मांग करते हुए कहा कि शासन को गुमराह करने वाली रिपोर्ट देने वाले प्रशासनिक अधिकारियों को दण्डित करें बुन्देलखण्ड में कर्ज एवं गरीबी के कारण आत्महत्या करने वाले किसानों की जांच कराकर उनके परिवारो को पुर्नस्थापित करने के लिए आर्थिक सहायता दे बुन्देलखण्ड में केन्द्र सरकार, उ0प्र0 सरकार द्वारा संचालित योजनाओं की देखरेख हेतु राज्य स्तरीय समिति का गठन करें। जिससे बुन्देलखण्ड के किसानों की योजनाओं का लाभ मिल सके तथा आत्महत्या में रोक लगे।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com