कार्यालयों का आकस्मिक निरीक्षण किया

0
169

डिप्टी कलैक्टर ने 11 कार्यालयों का औचक निरीक्षण कर अधिकारी, कर्मचारियों की उपस्थिति को देखा तो अधिकाश विभागों में अधिकारियों के अलावा कर्मचारी नदारद मिले। सम्बन्धित के खिलाफ कार्यवाही के लिए सम्पूर्ण आख्या जिलाधिकारी को प्रस्तुत की गयी है। यह निरीक्षण प्रात: 10.25 बजे से दोपहर 12 बजे तक किया गया। निरीक्षण को लेकर कार्यालयों में हड़कम्प की स्थिति रही। सर्वाधिक गैर हाजिरी सिंचाई खण्ड तृतीय में मिली। वहा पर कार्यालय अधीक्षक के अलावा चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी तक गैर हाजिर मिले। 18 कर्मचारियों में से मात्र 3 कर्मचारी उपस्थित मिले। यही हाल जल निगम का भी रहा।

डिप्टी कलेक्टर जायसवाल ने दिशा निर्देशों के चलते कार्यालयों का आकस्मिक निरीक्षण किया। जल निगम कार्यालय के निरीक्षण के दौरान तीन कर्मचारियों सहित चार चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी गैर हाजिर मिले।

इसके पहले सिंचाई निर्माण खण्ड के कार्यालय में कार्यालयाधीक्षक हरी प्रकाश श्रीवास्तव, प्रारूपकार अशोक सक्सेना व राजेश कुमार, सहायक महेन्द्र, लिपिक रूप नारायण शर्मा, भगवान दास तिवारी, हर प्रसाद वर्मा, शशिकात तिवारी, सोहन लाल शर्मा, वरुण कुमार, सहायक सील बाबू मनीराम, जगदीश तिवारी के अलावा चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी लक्ष्मी नारायण, हरी राम, रनर नारायण सिंह, वर्कदाज राजेश, निसार अली गैर हाजिर मिले, जबकि जल निगम कार्यालय में हरिश्चंद्र, आर.के.श्रीवास्तव, विन्ददास साहू, रामरतन, श्रीपत लाल, रवि शकर, दृगपाल अनुपस्थित थे।

जिला पंचायतराज अधिकारी कार्यालय में निरीक्षण के दौरान सहायक लेखाकार रमाकात रावत, कनिष्ठ लिपिक आर.के.साहू, लिपिक बी.के.शर्मा, कम्प्यूटर आपरेटर सुशील चौबे, जिला समन्वयक राजीव हिगवासिया गैर हाजिर मिले। सहायक सम्भागीय परिवहन अधिकारी कार्यालय में संजय कुमार गैर हाजिर मिले जो 29 जुलाई से लगातार अनुपस्थित है। इसी तरह से जिला बेसिक शिक्षाधिकारी कार्यालय में महादेव प्रसाद सेन, जिला समन्वयक मध्यान्ह भोजन प्रियंका मिश्रा गैर हाजिर मिलीं। वित्त एवं लेखाधिकारी कार्यालय में महेन्द्र कुमार जैन, हरिश्चंद्र श्रीवास्तव, मूलचंद सफेरा गैर हाजिर मिले।

जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय में निरीक्षण के दौरान नरेन्द्र कुमार श्रीवास्तव 21 दिसम्बर से व हरेन्द्र भटनागर 24 दिसम्बर से अनुपस्थित मिले। भूमि संरक्षण अधिकारी कार्यालय में प्रताप सिंह निरजन, शैलेन्द्र प्रताप सिंह, कमलेश कुमार श्रीवास्तव के अलावा सन्तोष तिवारी गैर हाजिर मिले। वहा पर उपस्थिति पंजिका को देखा गया तो उसमें 24 दिसम्बर से सन्तोष तिवारी अनुपस्थित पाये गये।

जिला प्रोबेशन अधिकारी कार्यालय में सीताराम लिपिक 23 दिसम्बर से अनुपस्थित, डूडा कार्यालय में सहायक परियोजना अधिकारी एस.सी.अगरिया गैर हाजिर मिले, जबकि गार्ड देवी प्रसाद उपस्थित था। उप कृषि निदेशक प्रसार कार्यालय के निरीक्षण के दौरान शेर सिंह, अवध बिहारी, कल्याण चंद्र उपस्थित नहीं पाये गये। अनुपस्थित व लम्बे समय से गैर हाजिर कर्मचारियों की विस्तृत रिपोर्ट अपर जिलाधिकारी के अलावा जिलाधिकारी को प्रेषित कर दी गयी है।