कांग्रेस में टिकट के लिये घमासान देवलिया को फिर मिल सकता मौका

0
349

ललितपुर विधानसभा क्षेत्र से उम्मीदवार की घोषणा में सपा द्वारा गुड्डू  राजा तथा बहुजन समाज पार्टी द्वारा रमेश कुशवाह का नाम धोषित होने के बाद सभी की निगाहे कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी की ओर लग गयी है। परम्परागत रूप से कांगे्रस और भाजपा का मजबूत गढ़ रहा ललितपुर विधानसभा क्षेत्र में पहली बार बुन्देला बन्धु आमने सामने की लड़ाई के लिये मैदान-ए-जंग में कूद चुके है। पूर्व मंत्री बीरेन्द्र सिंह बुन्देला उर्फ भगत राजा ने अपनी पुरानी पार्टी कांग्रेस का दामन थाम लिया है तो उनके बड़े भाई तथा कांग्रेस से सांसद रह चुके सुजान सिंह बुन्देला ने अपने बेटे गुड्डू राजा को समाजवादी पार्टी से टिकट दिलाकर सपा का दामन पकड़ा है। सपा के पूर्व अध्यक्ष रहे तिलक सिंह यादव भाजपा का दामन थामने का मन बना रहे है। इन सबके बीच कांग्रेस के लिये ललितपुर से विधानसभा उम्मीदवार के रूप में पूर्व प्रत्याशी रामस्वरूप देवलिया का नाम प्रमुख दावेदारों के रूप में उभर रहा है। जाति समीकरण के चलते झांसी से डमडम व्यास को कांगे्रस द्वारा उम्मीदवार बनाने के कारण ललितपुर में भी ब्रहा्रण उम्मीदवार की दावेदारी तेज हो रही है। कांग्रेस के अन्य उम्मीदवारों में प्रमुख दावेदार के रूप में बीरेन्द्र बुन्देला तथा मुक्ता सोनी का नाम दिल्ली दरबार में तेजी से चल रहा है। वहीं दूसरी ओर बीरेन्द्र सिंह बुन्देला को यदि किसी कारण वश कांग्रेस से टिकट नही मिलती है तो वह बुन्देलखण्ड कांग्रेस का दामन थाम कर चुनावी समर में उतर सकते है। भाजपा से तिलक यादव और गोविन्द्र सिंह लोधी तथा पूर्व विधायक देवेन्द्र सिंह का नाम प्रमुख उम्मीदवारों के रूप में उभरा है। ललितपुर में विभिन्न पार्टियों द्वारा कोई ब्राहा्रण उम्मीदवार न होने के कारण रामस्वरूप देवलिया की लाटरी खुल सकती है। ब्राहा्रण बाहुल सीट होने के कारण कांग्रेस देवलिया पर दाॅव लगा सकती है। देवलिया के दाॅव को रोकने के लिये पूर्व विधायक राजेश खैरा भी पूरी दमखम के साथ लगे हुये है। देखना यह है कि टिकट के रूमाल झप्पट्टा में किसके हाथ टिकट रूपी रूमाल आता है। बुन्देलखण्ड में कांगे्रस द्वारा दो महिला प्रत्याशी बनाने की योजना के तहत मुक्ता सोनी भी काफी मजबूत प्रत्याशी के रूप में अपनी धमक हाईकमान तक पहुॅचाने में लगी हुई है। कांगे्रस और भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार घोषित होने के बाद ही सियासी समीकरण समझ में आयेंगे।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com