कलम के तपस्वी है पत्रकार-राष्ट्रपति मैथ्रिपाला सिरिसेना

0
249

dig2151637

कोलंबो। पत्रकारिता किसी तपस्या से कम नहीं। पत्रकार कलम से के पूजारी है और उनकी तपस्या कलम है। जनता की बताते उजागर करते है सरकार सही निर्णय लेपाती है। उक्त बातें श्रीलंका के राष्ट्रपति मैथ्रिपाला सिरिसेना ने शुक्रवार को कोलंबो स्थित भंडारनायके अंतर्राष्ट्रीय प्रेक्षागृह मे कही।
img-20151009-wa0086
श्रीलंका प्रेस एसोशिएसन की 60वीं वर्षगांठ पर आयोजित कार्यक्रम मे भारत व श्रीलंका सहीत दक्षिण एसीया के पत्रकारों को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे।
dig2151561
इस दौरान राष्ट्रपति ने पत्रकारों की सुरक्षा एवं आजादी को भी महत्वपूर्ण बताया। खास तौर भारतीय पत्रकारो को संबोधित करते हुए उन्होने कहा कि भारत से हमारे गेहरे लगाव है और इस तरह के कार्यक्रमों से राष्टो के द्विपक्षिय संबंधों मे प्रगाणता बनती है। इससे पूर्व संसद सुधार एवं माॅस मीडिया मंत्री गयंतकरुणा तिलक ने संबोधित करते हुए कहा कि श्रीलंका की मीडिया काफी दबाव मे कार्य कर रही थी।
dig2151575
जिसमे एक वर्ष मे महत्वपूर्ण बदलाव हुआ है। जो अब स्वतंत्र रूप से कार्य कर रहे है। किंतु आज भी इसमे बहुत से सुधार बाकी है। फिलहाल हमारी सरकार इनकी स्थिति और उनके कार्य को देखते हुए इन्हे आवश्यक संयोग की जरूरत है। उन्होने कहा कि हमारी सरकार इस बात पर विचार कर रही है कि कम से कम इन्हे दो पहिया वाहन प्रदान करने की व्यवस्था बना रही है। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे मुदिता करियाकरवाना ने अपने स्वागत भाषण मे आईएफडब्ल्यूजे के राष्ट्रीय अध्यक्ष के0विक्रम राव की सराहना करते हुए कहा कि उनके सहयोग से संभव हो पाया कि दोनो देश के पत्रकार आपसी सहयोग कर पाते है। श्री राॅव अस्वस्थता के कारण शामील नहीं हो पाए है। इस दौर उनके संदेश को वरीष्ठ पत्रकार एवं आईएफडब्ल्यूजे के सोशल प्रभारी के0विश्वदेव राॅव ने पढा। भारतीय कार्यक्रम सभी का स्वागत करते हुए सभी का आभार व्यक्त किया। भारतीय पत्रकार दल की अगुवायी कर रहे आईएफडब्ल्यूजे के विदेश मामलो के सचिव एच0बी0मदन गौडा ने कार्यक्रम को संबोधित किया। इस दौरान उन्होने फरवरी मे आयोजिम होने वाले आईएफडब्ल्यूजे के राष्ट्रीय सम्मेलन मे आमंत्रित किया। कार्यक्रम के उपरांत भारतीय पत्रकार दल ने राष्ट्रपति एवं मीडिया मंत्री को स्मृति चिन्ह भेट किया। भारतीय दल का नेतृत्व कर रहे मदन गौडा, के0विश्वदेव राॅव, उपेंद्र पाधी, सी0के0शर्मा, शंकर दत्त शर्मा, हरिओम पाण्डेय, विकास शर्मा, इंद्रमणि, विश्वतेजा, अनुप पाण्डेय, पंकज कुमार, बृजेश कुमार पाण्डेय, शिवराम, नवीन आदि से राष्ट्रपति ने मुलाकात की।