एल.आई.यू. द्वारा करवाई जाएगी जांच,इच्छाधारी के पासपोर्ट की

0
306

एसी रुम में ठहराए जाने से लोगों में रही तरह-तरह की चर्चाएं

चित्रकूट –   इच्छाधारी द्वारा रिवाल्वर लाइसेंस के लिए दिए गए  आवेदन पत्र को जिलाधिकारी ने जहां निरस्त कर दिया है वहीं एलआईयू को उन्होंने बाबा के पास से दिल्ली पुलिस द्वारा बरामद किए गए पासपोर्ट की पड़ताल करने के लिए भी कहा है।

जिलाधिकारी विशाल राय ने शनिवार को बातचीत के दौरान बताया कि उन्होंने बाबा द्वारा रिवाल्वर लाइसेंस प्राप्त करने के आवेदन को निरस्त कर दिया है वहीं उसके पूर्व में बने रायफल के लाइसेंस के निरस्तीकरण की प्रक्रिया भी चल रही है। जबकि इच्छाधारी उर्फ भीमानन्द महाराज चित्रकूट वाले के नाम से बने पासपोर्ट के छानबीन के लिए उन्होंने स्थानीय एल.आई.यू इकाई को निर्देश दिए हैं।

इच्छाधारी उर्फ भीमानन्द दिल्ली पुलिस के साथ शुक्रवार की शाम से शनिवार दिल्ली रवाना होने तक यूपी टूरिस्ट बंगले के  अत्याधुनिक सुविधाओं से युक्त 213 नंबर के कमरे में एसी का मजा लेता रहा। इस बीच हालांकि मीडिया कर्मियों तो बाबा से दूर रखा गया लेकिन चर्चा है कि दिल्ली पुलिस के लोग बाबा के खाने पीने की अच्छी खासी व्यवस्थाएं कमरे में ही किए रहे। इसके साथ ही इच्छाधारी के कुछ खास लोगों के बाबा के कमरे में जाने की भी चर्चा रही। उधर इतने बड़े आरोप में पकड़े गए इच्छाधारी को चित्राकूट में बीआईपी सुविधा प्रदान करना और उसका हर तरह से   ध्यान रखना लोगों के गले नहीं उतर रहा था। लोगों में चर्चा रही कि जिस तरह दिल्ली पुलिस ने बाबा के ऊपर आरोप लगाए हैं और चित्राकूट में उसकी अकूत संपत्ति के दावे किए हैं ऐसे में बाबा के साथ किया गया दिल्ली पुलिस का यह व्यवहार क्या साबित करेगा ।

श्री गोपाल

9839075109