एमबीबीएस के साथ पी.एच.डी और पैरामेडीकल प्रवेश में हुई धांधली..रुपये 30 लाख..

0
192

hhll2

डाक्टर सचिन माहौर बने मोहरा

एमबीबीएस प्रवेश में हुई धांधली के मामले में गुजरात पुलिस ने बुधवार रात को महारानी लक्ष्मीबाई मेडिकल कॉलेज झाँसी के कैंसर विभागाध्यक्ष डॉ. सचिन माहौर को पकड़ लिया है। गुजरात पुलिस थाना नवाबाद में लिखत-पढ़त करने के बाद डॉक्टर को बड़ौदा ले गई है। गुजरात पुलिस ने बताया कि पकड़े गए डॉक्टर प्रवेश में धांधली करानेे वाले सरगना और छात्रों के बीच मध्यस्थता का काम करते थे।
गुजरात के थाना गोत्री बड़ौदा की पुलिस बुधवार को नवाबाद थाने पहुंची। थाना पुलिस को साथ लेकर प्रवेश धांधली के मामले में पकड़े जा चुके एक आरोपी को लेकर मेडिकल कॉलेज पहुंचते ही गुजरात पुलिस के साथ आए आरोपी ने डॉ. माहौर की अपने साथी के रूप में शिनाख्त की। इसके बाद गुजरात पुलिस डॉक्टर सचिन माहौर को लेकर थाना नवाबाद पहुंची । वहां पर डाक्टर को पकड़े जाने की लिखत-पढ़त की गई।
गुजरात पुलिस के उपनिरीक्षक एमबी पटेल ने बताया कि एमबीबीएस में प्रवेश के लिए धांधली करके हजारों युवकों से जालसाजी करके करोड़ों रुपये का घालमेल किया गया है। इस मामले की रिपोर्ट सूरत में अशोक कुमार ने दर्ज करवाई है। एमबीबीएस में प्रवेश के नाम पर झांसा दिया है, जिसके चलते डाक्टर को पकड़ने के लिए आरोपी नितिन को साथ लेकर आए। उसकी ही निशानदेही पर डॉ. माहौर को पकड़ा गया है।
गुजरात पुलिस ने बताया कि डॉ. माहौर को गुजरात ले जाकर जालसाजी का शिकार हुए लोगों के सामने पेश किया जाएगा।

पूर्व प्राचार्य भी आ सकते है लपेटे में

बताया जा रहा है कि डाक्टर सचिन माहौर इस मध्यस्थता को अंजाम पूर्व मेडिकल कालेज के प्राचार्य डाक्टर महलोत्रा के आदेश पर करते थे किउंकि इतना बड़ा काम बिना प्राचार्य की रजामंदी से होना संभव नहीं है सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार एमबीबीएस प्रवेश में हुई धांधली के अलाबा झाँसी में PHD पी एच डी , पेरामेडिकल कालेज में हुई भर्ती सहित दर्जन ऐसे मामले है जिनमे मेडिकल कालेज के प्राचार्य की मिली भगत से धांधलियों को बड़ी सफाई से अंजाम दिया गया था. एमबीबीएस प्रवेश में हुई धांधली में प्रति छात्र तीस लाख तक छात्रों से बसूला गया था।

NO COMMENTS