एडी बेसिक के सामने विद्यालयों की पोल खुली

0
250

मंडलीय सहायक शिक्षा निदेशक बेसिक झांसी-चित्रकूट ने बांदा, चित्रकूट जनपद के प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालयों का निरीक्षण कर व्यवस्थाओं की पोल खोल दी। कहीं प्रधानाध्यापक पुस्तकों का नाम नहीं बता पाये तो कहीं विद्यालयों में गंदगी का ढेर लगा रहा। ज्यादातर मिड-डे मील में अनियमितताएं मिली।

सहायक शिक्षा निदेशक बीपी पटेल ने सोमवार को चित्रकूट जनपद के प्राथमिक विद्यालय अमानपुर का निरीक्षण किया। वहां छात्रों की कम उपस्थिति व बाउंड्रीवाल अधूरा होने पर चिंता जाहिर करते हुए निर्माण प्रभारी जगजीवन का वेतन रोकने के निर्देश दिये। साथ ही बाउंड्री निर्माण शीघ्र पूरा कराये जाने की चेतावनी दी। पूर्व माध्यमिक विद्यालय भरतकूप व कन्या पूर्व माध्यमिक विद्यालय शिवरामपुर में एक माह से मिड-डे मील न बनने और नि:शुल्क पाठ्य पुस्तक वितरित न होने पर प्रथम दृष्टया एबीएसए चित्रकूट व बीआरसी प्रभारी के वेतन रोकने के निर्देश दिये।

नरैनी क्षेत्र के तुर्रा प्राथमिक विद्यालय दो में उन्हें मिड-डे मील में तो गुणवत्ता मिली किंतु विद्यालय में फैली गंदगी पर उन्होंने प्रधानाध्यापक देश बंधु रूपौलिहा को कड़ी फटकार लगायी। इसके बाद उन्होंने खुद विद्यालय की सफाई भी कराई। उन्होंने प्रधानाध्यापक से कक्षा-5 की अंग्रेजी पुस्तक का नाम पूछा जिसे वह नहीं बता पाये। इस पर उन्होंने प्रधानाध्यापक को निलंबित करने के लिए बीएसए को निर्देशित किया। संकुल भवन बंद होने पर संकुल प्रभारी से स्पष्टीकरण मांगने के लिए कहा। महुआ क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालय नगनेधी में सहायक अध्यापिका को बिना सूचना के अनुपस्थित रहने पर वेतन रोकने के निर्देश देते हुये स्पष्टीकरण तलब किया। प्राथमिक विद्यालय खुरहंड प्रथम व द्वितीय में एक माह से मिड-डे मील न बनने पर सहायक बेसिक शिक्षा अधिकारी से स्पष्टीकरण मांगा। शिक्षामित्र अंजली सिंह के चार दिन अनुपस्थित रहने पर मानदेय रोकने के निर्देश दिये।