एक के मुकाबले 6 विधानसभा सीटों पर स्टार प्रचारक को सुनने पहुंची जनता

0
179

आज झांसी में मायावती और राजनाथ सिंह दो विशाल चयन व आम सभा आयोजित हुई जिसमें बसपा सुप्रीमो मायावती ने झांसी ललितपुर जिले की 6 विधानसभा सीटों  के लिए झांसी के प्रदर्शनीय ग्राउंड में जनसभा को संबोधित किया तो वहीं झांसी सदर सीट के दिए केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह ने एक आम जनसभा को संबोधित किया दोनों ही सभाओं में जनता की भीड़ पर्याप्त देखने को मिले फर्क सिर्फ इतना था जनसभा में छह विधानसभा और आमसभा में एक विधानसभा थी ।

चुनाव में वोट मांगने झाँसी पहुँचे केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने अपने पकिस्तान दौरे और सेना के सर्जिकल स्ट्राइक की कहानियां सुनाकर वोट मांगे। केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने झाँसी में आज एक चुनावी जनसभा में सेना के शौर्य का बखान कर भाजपा के लिए वोट माँगा। राजनाथ सिंह ने झाँसी में भानी देवी गोयल इंटर कॉलेज के मैदान पर एक चुनावी जनसभा को संबोधित किया। राजनाथ सिंह ने अपने संबोधन में कहा कि प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारतीय सेना के जवानों ने सीमा पर आतंकवादियों को सबक सिखाने का काम किया है।
राजनाथ सिंह ने कहा कि जब वे इस्लामाबाद के दौरे पर गए तो वहां आतंकवादियों ने उनके खिलाफ नारे लगाए। वहां राजनाथ सिंह वापस जाओ के नारे लागाये गए। नारे लगाने वालों को नेतृत्व आतंकवादी कर रहे थे। भारत कभी विस्तारवादी नहीं रहा। भारत कभी आक्रांता नहीं रहा। पाकिस्तान में कहा जाता है कि भारत के गृह मंत्री को पाकिस्तान में घुसने नहीं देंगे। वहां भारत के प्रधानमंत्री के खिलाफ नारे लगाए जाते हैं।
राजनाथ सिंह ने कहा कि उत्तर प्रदेश देश की राजनीति की दशा और दिशा बदल सकता है। यहाँ से भाजपा को 73 सीटें न मिलती तो केंद्र में भाजपा की सरकार न बन पाती। ढाई वर्ष का समय बीत चुका है। समर्थक नरेन्द्र मोदी के कार्यों की तारीफ करते होंगे जबकि विरोधी आलोचना करते होंगे। राजनाथ सिंह ने कहा कि लोकसभा की तरह इस विधान सभा चुनाव में भी लोग भाजपा को वोट देकर प्रदेश में पूर्ण बहुमत की सरकार बनाने का काम करें।

 

तो वही आज मायावती ने रैली करते हुए कहा कि कांग्रेस, सपा, भाजपा पर जमकर निशाना साधा. इसके साथ ही उन्होंने बुंदलेखंड राज्य के मुद्दे को हवा देते हुए कहा कि उनकी सरकार आने पर बुंदलेखंड को अलग राज्य बनाया जाएगा. राज्य बनाए बिना वह चैन नहीं लेंगी. मायावती ने कहा कि मुझे पूरा भरोसा है कि बुंदलेखंड की सभी सीटों पर बसपा जीतेगी. मायावती ने पीएम मोदी व अमित शाह को अखिलेश का अंकल व सोनिया गांधी को आंटी बताया. कहा कि ये सब मिले हुए हैं. इन सबको सबक सिखाना पड़ेगा. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि जिन दलितों की पांच साल तक रिपोर्ट नहीं लिखी गयी, बसपा की सरकार बनने के बाद विशेष अभियान चलाकर रिपोर्ट दर्ज कराई जायेगी. सपा के गुंडों को ठीक कर दिया जाएगा.

मुस्लिम वोटों को साधने की कोशिश : मायावती ने कहा कि जिस तरह से दलित वोट एकजुट है. उसी तरह से मुस्लिम वोट भी एकजुट हो जाए तो उनकी ही सरकार बनेगी. उन्होंने कहा कि लोगों ने पांच साल में कुछ नहीं किया. अपराध बढ़ा. इससे यहाँ लोगों में निराशा है. सपा कानून व्यवस्था और अपराध नियंत्रण में विफल हुई. इसके बाद भी अखिलेश के अंकल नरेन्द्र मोदी, दूसरे अंकल अमित शाह व आंटी सोनिया गाँधी ने कुछ नहीं किया. इसलिए इन नेताओं के पास बोलने का अधिकार नहीं रहा है. उन्होंने कहा कि नरेन्द्र मोदी खुद को यूपी का माँ-बाप बताएं या गोद लिया हुआ बेटा, फिर भी यूपी में बीजेपी नहीं आएगी.

 नोटबंदी पर उन्होंने कहा कि बीजेपी ने हज़ारों लोगों को बेरोजगार कर दिया. गरीबों को परेशान किया गया. जबकि 2014 का एक भी वादा पूरा नहीं किया. नोटबंदी के बाद पैसा बड़े उद्योगपतियों को दे दिया गया. अब तक फायदे का हिसाब भी नहीं बताया. उन्होंने तीन तलाक के मुद्दे पर कहा कि बीजेपी ने इसे मुद्दा बनाकर मुस्लिमों को परेशान किया.

मीडिया पर भी निशाना : उन्होंने मीडिया पर निशाना साधते हुए कहा कि पैसे देकर मीडिया द्वारा सर्वे दिखाए गये. इसमें बसपा को तीसरे चौथे नम्बर पर दिखाया गया. 2007 में भी ऐसा ही कहा गया था. तब बसपा ने सरकार बनाकर सबको पीछे छोड़ दिया था. इस बार भी ऐसा ही होगा. स्कूली बच्चों को स्कूल में अंडा और दूध दिया जाएगा. उन्होंने बसपा के सभी प्रत्याशियों को जिताने की अपील की. कहा कि बुंदेलखंड की सभी सीटें बसपा जीतेगी, ऐसा उन्हें यकीन है.

अब देखना होगा सपा और कांग्रेस का गठबंधन कितना कारगर साबित होगा क्योंकि इंदौर रैलियों के बाद अगले दिन जिले में राहुल गांधी और अखिलेश यादव एक साथ सपा गठबंधन प्रत्याशियों के पक्ष में वोट मांगते नजर आएंगे इंद्रियों पर होने बाली राजनीति का जनता पर कितना असर पड़ता है यह तो आने वाली मतदान की तारीख ही तय कर पाएगी और इन रैलियों का जनता पर कितना असर हुआ यह 11 मार्च को आने वाले परिणाम ही साबित करेंगे