उमाश्री भारती कल चरखारी जाएंगीे

0
258

बुन्देलखण्ड का कश्मीर कहलाने वाला चरखारी विधानसभा क्षेत्र भले ही मध्यप्रदेश की सीमा से घिरा हुआ हो लेकिन इस विधानसभा क्षेत्र का इतिहास गवाह है कि यहां से कोई भी वीआईपी प्रत्याशी जीत का सहरा अपने सिर नही बंधवा सका है। लेकिन अतीत के इतिहास को चुनौती देने के लिये भारतीय जनता पार्टी की फायर ब्राण्ड नेत्री उमाभारती कल (आज) चरखारी पहुंच रही है।
भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष कलराज मिश्र एवं राष्ट्रीय नेता व भाजपा लाओ-प्रदेश बचाओ अभियान की संयोजक उमाश्री भारती कल चरखारी जाएंगीे। प्रदेश मीडिया प्रभारी नरेन्द्र सिंह सिंह राणा ने उक्त जानकारी देते हुए बताया कि श्री मिश्र व भारती चरखारी मंे आयोजित कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगी। सुश्री भारती नई दिल्ली से रेलमार्ग से हरपालपुर पहुंचंेगी और वहां से काफिले के साथ चरखारी जाऐंगी जबकि श्री मिश्र लखनऊ से हेलिकाप्टर द्वारा चरखारी पहुंचेगें। चरखारी विधानसभा क्षेत्र के जाति समीकरणों पर एक नजर डाली जाये यहां के मतदाताओं की संख्या 2 लाख 64 हजार है। इसमें लोधी मतदाता 65 हजार, ब्राहा्रण 35 हजार, ठाकुर 17 हजार, कुशवाहा 20 हजार, प्रजापति 12 हजार, निषाद 15 हजार, वैश्य 6 हजार, यादव 7 हजार तथा मुस्लिम मतदाता 20 हजार है। कांग्रेस द्वारा आयोजित राहुल गांधी की रैली ने भीड़ के सारे रिकार्ड तोड़कर जता दिया है कि इस वीआईपी बन गये विधानसभा क्षेत्र में चुनौतियाँ कम नही है। कांग्रेस ने स्थानीय निवासी तथा स्वच्छ जनाधार वाले नेता रामजीवन को टिकट दिया है तो बसपा ने लोधी समाज के राठ (हमीरपुर) निवासी धूराम चैधरी को मैदान में उतारा है। कुछ-कुछ यही समाजवादी पार्टी का है कप्तान सिंह लोधी को टिकट दिया है तथा भाजपा उमीदवार उमाभारती भी मध्यप्रदेश के टीकमगढ़ जिले की निवासी है। इसलिए स्थानीय और  बाहरी का मुद्दा भी एक महत्वपूर्ण कारक बनेगा। बुन्देलखंड में किसी वीआईपी का जादू नही चलता। यहाँ का मतदाता अपने घर गाँव के क्षेत्र के लोगों को ही विजय बनाता रहा है। जानकार सूत्रों की माने तो महोबा जिले का इतिहास गवाह है कि यहां वीआईपी नेताओं को हमेशा करारी मात खाना पड़ी है। जनपद में लोकसभा चुनाव के दौरान चैथे नम्बर पर खिसक चुकी भारतीय जनता पार्टी  के लिये संघर्ष को कठिन करने के लिये जनक्रान्ति पार्टी से पवन राजपूत तथा समान्ता दल से ओमबती राजपूत भी मैदान में आने के लिये ताल ठोक चुकी है। लोधी समाज के पाॅच उम्मीदवार चुनाव मैदान में आने के कारण कांग्रेस और भाजपा के साथ बसपा की त्रिकोणीय लड़ाई में कौन किसे मातदेता है। यह तो आने वाला वक्त ही बतायेगा।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com