आय-जाति प्रमाण पत्र के लिए नहीं भटकेंगे विद्यार्थी

0
260

चित्रकूट- आय-जाति प्रमाण पत्र बनवाने में हो रही मारा मारी से बचने के लिए प्रशासन ने नई पहल की है। इसके चलते अब विद्यार्थियों को इन प्रमाण पत्रों के लिए तहसील के चक्कर नहीं लगाने होंगे।

शैक्षिक सत्र की शुरुआत के साथ ही तहसील में आय-जाति प्रमाण पत्रों के आवेदन पत्र लेकर भटकने वाले छात्रों को शायद राहत मिलने वाली है। सिंगल विंडो में जुटने वाली आवेदकों की भीड़ व तहसील से प्रमाणपत्र मिलने में होने वाली दिक्कतों के मद्देनजर जिला प्रशासन ने छात्रों के लिए पूर्व में बनाई गयी व्यवस्था में सरलीकरण कर दिया है। तहसीलदार अश्वनी कुमार श्रीवास्तव का कहना है कि प्रवेश शुल्क माफी व छात्रवृत्ति आदि के लिये विभिन्न विद्यालयों द्वारा शैक्षिक सत्र की शुरुआत में आय व जाति प्रमाण पत्र मांगे जाते हैं। जिससे छात्रों की भीड़ जुटने से तहसील के अन्य कार्य भी प्रभावित होते है। साथ ही विद्यार्थियों को भी अनावश्यक रूप से भटकना पड़ता है। उन्होंने स्वीकार किया कि सिंगल विंडो का कार्य देख रही एजेंसी आशानुरूप कार्य नहीं कर सकी। संबंधित एजेंसी के विरुद्ध कार्रवाई की जा रही है। तहसीलदार ने बताया कि मुख्यालय के सभी कालेजों को पत्र जारी किये गये हैं। जिसमें कहा गया है कि अब छात्रों के जाति व आय प्रमाण पत्र बनवाने की जगह विद्यालय अपने स्तर से सूची बनाकर तहसील भेज दें। यहां से पूरी सूची में दर्ज छात्रों के नामों के आधार पर आय व जाति का सत्यापन करा लिया जायेगा। वहीं, सदर एसडीएम बी पी खरे ने भी छात्रों को हो रही दिक्कतों को गंभीरता से लिया है। उन्होंने जिला विद्यालय निरीक्षक व जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को पत्र लिखकर आय-जाति प्रमाण जमा करने की तिथियां बढ़ाने की बात कही है।