आयोवा स्टेट यूनिवर्सिटी के शैक्षणिक दल ने देखी शैक्षिक गतिविधियां

0
281

आयोवा स्टेट यूनिवर्सिटी अमेरिका के शिक्षकों और विद्यार्थियों का एक शैक्षणिक दल मंगलवार को महात्मा गांधी चित्रकूट ग्रामोदय विश्वविद्यालय का भ्रमण किया। ग्रामोदय विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. ज्ञानेंद्र सिंह ने भ्रमण पर आये अमेरिकी छात्र-छात्राओं को जानकारी दी कि यह देश का पहला ग्रामीण विवि है। यहां अध्ययन और शोध करने वाले प्रत्येक विद्यार्थीं को गांव से जोड़ना पड़ता है। अभी हाल ही में सस्केचवान यूनिवर्सिटी कनाडा के साथ हुये समझौते के तहत दोनो विश्वविद्यालयों के छात्र एवं शिक्षक एक दूसरे के यहां अध्ययन-अध्यापन और शोध कार्य के लिये आ,जा सकेंगे।

कुलपति प्रो. सिंह ने कहा कि यहां की हर्बल औषधियों का अभिलेखीकरण करके नई परियोजनायें स्थापित की जा सकती हैं। जिससे स्थानीय लोगों को रोजगार भी मिलेगा। प्रो. सिंह ने बताया कि आठ से दस फरवरी के बीच ग्रामोदय विश्वविद्यालय अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार करने जा रहा है। जिसमें अनेक देशों के वृद्ध आयेंगे। ग्रामोदय विवि की प्रबंध मंडल की सदस्य एवं उद्यमिता विद्यापीठ की निदेशक डा. नंदिता पाठक की अगुवाई में मंगलवार को इस दल में विवि जाकर गतिविधियों को देखा। दल के साथ आई सीनियर प्रोफेसर डा. एमी बटलर ने आयोवा स्टेट यूनिवर्सिटी द्वारा संचालित शैक्षणिक गतिविधियों की जानकारी दी। इस दौरान अमेरिकी छात्रों ने बताया कि अत्यधिक गरीब समुदाय में शिक्षा, युवाओं में नशा, पति-पत्नी के मध्य तलाक के चलते छोटे बच्चों के पालन-पोषण में समस्याओं के समाधान के लिये समाज कार्य के विद्यार्थी रास्ता ढूंढ रहे हैं। इस मौके पर डा. अमिताभ वशिष्ठ, विनीत श्रीवास्तव, डा. चित्रा, प्रो. शिवराज सिंह सेंगर, डा. कुसुम सिंह, डा. सिद्धार्थ शर्मा, डा. विनोद शंकर सिंह, डा. राजेश कुमार त्रिपाठी, डा. अजय चौरे व अखिलेश शिवहरे आदि मौजूद रहे।