आखिर क्यों एक कलेक्टर को मंगनी पड़ी माफी ?

0
286

मामला राजस्थान का है वहाँ हाईकोर्ट में बरसाती नालों को लेकर दायर एक जनहित याचिका की सुनवाई में गुरुवार को जिला कलेक्टर  प्रीतम बी. यशवंत और नगर निगम आयुक्त हरिसिंह राठौड़ व्यक्तिगत रूप से पेश हुए। पिछली सुनवाई पर हाईकोर्ट के आदेश की पालना नहीं करने पर हाईकोर्ट ने नाराजगी जाहिर करते हुए कलेक्टर  को तलब किया था।

कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश अजीतसिंह और न्यायाधीश गोविन्द माथुर की खण्डपीठ में सुनवाई के दौरान कलक्टर ने आदेश की पालना नहीं करने पर माफी मांगी। कलेक्टर के माफी मांगने पर हाईकोर्ट ने दस फरवरी तक आदेश की पालना करने के निर्देश दिए।

यह है मामला

जोधपुर शहर में बरसाती नालों के अवरुद्ध होने पर जनहित याचिका पेश की गई थी। जिस पर हाईकोर्ट ने कलेक्टर को आदेश दिए थे कि सभी विभागों की संयुक्त बैठक लेकर बरसाती नाले का लेआउट तैयार कर अवरोध हटाकर नाला शुरू करें, लेकिन कलेक्टर ने बैठक नहीं ली। जिसके चलते आदेश की पालना नहीं हो पाई। पिछली सुनवाई पर हाईकोर्ट ने कलेक्टर की कार्यशैली पर नाराजगी जाहिर करते हुए उन्हें तलब किया था।