अक्षय नवमी पर पूजे गये आंवले के पेड़

0
202

बांदा-अक्षय नवमी पर महिलाओं ने आंवला के वृक्ष की पूजा अर्चना व परिक्रमा कर परिवार के सुख समृद्धि की कामना की। परिवार के साथ पूजा करने के बाद भोजन ग्रहण किया।

कार्तिक शुक्ल पक्ष की अक्षय नवमी पर महिलाओं ने आंवले के वृक्ष की 108 बार परिक्रमा एवं धागा बांध विधि विधान से पूजा अर्चना कर परिवार के सुरक्षित भविष्य की कामना की। प्राचीन मान्यता के अनुसार आंवले के वृक्ष में मां लक्ष्मी एवं भगवान विष्णु का वास होता है। इसलिये स्वच्छ एवं निर्मल मन से इसकी पूजा करने से प्रभु भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण करते है। इस दिन महिलाओं ने अपने परिवार के साथ आंवले के वृक्ष के नीचे बैठकर भोजन ग्रहण किया और विधि विधान से पूजा अर्चना करने के बाद वृक्ष की परिक्रमा लगाई। इस मौके पर महिलाओं ने धार्मिक गीत गाकर पूरे वातावरण को सुखमय बना दिया। इस मौके पर छोटे-छोटे बच्चों ने भी जमकर मौज मस्ती कर पिकनिक का आनंद उठाया।

NO COMMENTS